Skip to main content

अवसाद से लड़ने का तरीक़ा

अवसाद से लड़ने का तरीक़ा

अवसाद के दौरान व्यक्ति का ऊर्जा का स्तर काफ़ी गिर जाता है। साथ ही, वह कुछ नया करने की प्रेरणा और हिम्मत नहीं जुटा पाता। यह दोनों बातें, अवसाद की सबसे बड़ी चुनौती और इससे निपटने में आने वाली बाधाएं हैं। यहाँ कुछ तरीक़े बताए जा रहे हैं, जिन्हें अपनाकर आप अवसाद से लड़ने और चुनौतियों से निपटने में कामयाब हो सकते हैं:

 
  • छोटे-छोटे लक्ष्य बनाते रहें

    बात चाहे व्यायाम की हो या मनोरंजन की, उसके साथ आप कुछ लक्ष्य ज़रूर तय करें। यह लक्ष्य ऐसे होने चाहिए जिन्हें आप कम ऊर्जा के बावजूद, आसानी से हासिल कर पाएं। छोटे लक्ष्यों से शुरू करें और पूरे दिन के काम से जुड़े लक्ष्य को बांट दें। हर दिन कम से 5-10 मिनट चलें, ज़रूरी नहीं कि आपको हर दिन 20 मिनट चलना हो। 20 पेज पढ़ने के बदले हर दिन 2 पेज पढ़ा करें।

  • लोगों से जुड़े रहें

    ऐसा हो सकता है कि आप लोगों से घुलना-मिलना पसंद न करें। हालांकि, ऐसा करने से अवसाद के आपके लक्षण और बिगड़ सकते हैं। किसी दोस्त से बात करें। अगर आप नहीं चाहते हैं, तो आपको इस बारे में बात करने की ज़रूरत नहीं है कि आप कैसा महसूस कर रहे हैं; बस दोस्त से बात करें और संपर्क में बने रहें।

  • मदद मांगने से कतराएं न करें

    खाने से लेकर किसी डेडलाइन को पूरा करने में, जैसे हम ज़रूरत पड़ने पर दोस्तों से बेझिझक मदद मांग लेते हैं, वैसे ही आप अवसाद महसूस होने पर सकते हैं। अवसाद में आप ख़ुद को अकेला महसूस करते हैं और यह अनुभव काफ़ी तकलीफ़ भरा हो सकता है। ऐसे में अगर आपको किसी से बात करने या मदद की दरकार हो, तो ऐसा करने से पीछे न हटें। आज ही ‘मन टॉक्स’ को कॉल करें, ताकि हमारी पेशेवर टीम के लोग आपकी मदद कर सकें। मदद मांगने पर किसी तरह की शर्म महसूस नहीं होनी चाहिए, क्योंकि मदद के लिए हाथ बढ़ाकर आप ख़ुद को एक नायाब तोहफ़ा देते हैं।