Skip to main content

मानसिक स्वास्थ्य में सहयोगी

मानसिक स्वास्थ्य के पैरोकार या सहयोगी कैसे बनें

मानसिक स्वास्थ्य के सहयोगी बनने के लिए, आप इन बातों को अपना सकते हैं:

  • मानसिक स्वास्थ्य पर खुलकर बात करें और इसे किसी तरह के शर्म का विषय न मानें:

    • मानसिक स्वास्थ्य के बारे में बातचीत करें, अपने साथियों से पूछें कि वे कैसे हैं (उनका मानसिक स्वास्थ्य कैसा)।
    • मानसिक स्वास्थ्य को लेकर अपने नज़रिए और संघर्ष को लोगों से बांटें।
  • लोगों को सुरक्षित माहौल मुहैया कराने के तरीक़े, ताकि वे आपसे खुलकर बात करें:

    अपने दोस्तों या जो लोग तकलीफ़ महसूस करें उन्हें यक़ीन दिलाएं कि अगर वे आपसे कुछ कहना चाहें, तो आप उनकी बात सुनने के लिए हर वक़्त तैयार हैं।

    • उनकी बातें धैर्य से सुनें
    • उन्हें दोष न दें या उनके बारे में राय न बनाएं
    • सहानुभति को अपनाएं—“मुझे दिख रहा है कि इससे तुम्हें तकलीफ़ महसूस हो रही है।”
    • जब तक वे आपसे कोई सलाह न मांगें, तब तक कोई राय देने से बचें
    • उन्हें ऐसी बात कहने पर मजबूर न करें जिसे वे शेयर नहीं करना चाहते
    • उनकी निजता का सम्मान करें और सीमाओं में रहें

    आपसे साझा की गई जानकारी को आपको गोपनीय रखना चाहिए। अगर उनके जीवन को या किसी अन्य को कोई खतरा है, तब आपको सिर्फ़ उस ख़ास जानकारी को ही साझा करना चाहिए जिससे उन्हें ज़रूरी सहायता दी जाए।

  • किसी तरह पेशेवर मदद को उन तक पहुंचाना

    किसी के मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में, सहयोगी के रूप में आप सीमित चीज़ें ही कर सकते हैं। परिवार के सदस्य, मित्र या सहकर्मी के रूप में अपनी सीमाओं को समझना महत्वपूर्ण है। जब आप उन्हें कोई मदद या किसी तरह की मानसिक सहायता पहुंचाने में असमर्थ हों, तो उन्हें ‘मन टॉक्स’ के बारे में बताएं और उन्हें हमारी हेल्पलाइन पर कॉल करने के लिए कहें।